छत्तीसगढ़िया मन बड़ भोले होते

छत्तीसगढ़िया मन बड़ भोले होते 
मेहनतकस मनखे होते 
जबले २ रुपया किलोमा चाउर ल झोके 
चाउर ल बेच के भट्ठी डहर रेगे 
काम बूता ल भुला के अलाल बने 
चाउर वाला बाबा सत्ता में हे कहिके
बीड़ी गाजा दारू मा पैसा ल फुके
काम धंधा दू चारदीन करे बाकि दिन घर मा बैठे
सरकार के योजना फायदा ल जयदा नुकशान मा पर गे
जब छत्तीसगढ़िया मन चाउर बेच के दारू पिए
गरीबी ल हटाये बार ये योजना ल लाये रहिस
पर गरीबी दूर नई होइस पर मनखे मन अलाल बन गीस
यही ल कहिथे छत्तीसगढ़िया मन भोले होते
पर सही गलत के फैसला करे ल नई जाने

#############################

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें