हमर छत्तीसगढ़ हवय महान

हमर छत्तीसगढ़ हवय महान,
जिहाँ देवी देवता हवय विराजमान।
साधु संयासी सबो के हवय मान,
हमर छत्तीसगढ़ हवय महान।

जिहाँ किसान बेटा के हवय पहचान,
खेती करईयाँ गाँव के किसान।
जिहाँ हवय तिहार के अलग पहचान,
हर तिहार के अलग—अलग मिष्ठान।
हमर छत्तीसगढ़ हवय महान।

जिहाँ हवय पहुँना भगवान,
गाँव गवई के ये हवय मान।
मिलजुल के रहिथे सबो मितान,
हमर छत्तीसगढ़ हवय महान।

जिहाँ गाय बैईला भईसा पूजा के समान,
छ.ग. ला कहिथे धान के कटोरा मितान।
जिहाँ मया दुलार के हवय प्रित,
सुवा, पंथी, कर्मा,ददरिया जिहाँ के गीत।
हमर छ.ग. सबो ले निक,
हमर छत्तीसगढ़ हवय महान।
#################################
इस रचना को आप छत्तीसगढ़ की वेब पत्रिका गुतुर गोठ में भी पढ़ सकते है। 
पढ़ने के लिए इस लिंक http://www.gurturgoth.com/में जाइए।
###################################################
नामहेमलाल साहू
ग्रामगिधवापोस्टनगधा,
थानानांदघाटतह.नवागढ़,
जिलाबेमेतराछत्तीसगढ़
मो. नं.9907737593
Email ID- hemlalshahu@gmail.com


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें