ऐ गाव के किसान भईया

ऐ गाव के किसान भईया।
बुता बनहारि के करईया।।

अपन बनहारि के खवईया।
अपन गाव घर के रहईया।।

जागर पेर फसल ऊगईया।
दुनिया के पालन करईया।।

धान उन्हारि खेती करईया।
बइला तोर मितान भईया।।
#############################
इस रचना को आप छत्तीसगढ़ की वेब पत्रिका गुतुर गोठ में भी पढ़ सकते है। 
पढ़ने के लिए इस लिंक http://www.gurturgoth.com/में जाइए।
###################################################

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें