बबा अऊ ढोकरीदाई मन के गोठ बात

बबा अऊ ढोकरीदाई मन के गोठ बात
बने कान देके सुन झन ते भाग।

अपन जवाना के गोठ ला गोठियाही
सुघ्घर मया प्रेम के बात ला बताही।

सही रद्दा मा चले बर सिखाही
सुघ्घर जिन्दगी के रद्दा धराही।

दु भाखा खरी खोटी सुनाही
नानम प्रकार के गोठ ला गोठियाही।

किस्सा कहानी तोला सुनाही
दु पैसा बचाये बर तोला सिखाही।

अपन जवाना के गोठ ला गोठियाही
सुघ्घर मया प्रेम के बात ला बताही।

बबा अऊ ढोकरीदाई मन के गोठ बात
बने कान देके सुन झन ते भाग।
#################################












इस रचना को आप छत्तीसगढ़ की वेब पत्रिका गुतुर गोठ में भी पढ़ सकते है। 
पढ़ने के लिए इस लिंक http://www.gurturgoth.com/में जाइए।
###################################################
नामहेमलाल साहू
ग्रामगिधवापोस्टनगधा,
थानानांदघाटतह.नवागढ़,
जिलाबेमेतराछत्तीसगढ़
मो. नं.9907737593
Email ID- hemlalshahu@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें