मनखेमन पवित्रता ल गवइस

मनखेमन पवित्रता ल गवइस।
आधुनिक संस्कृति ला पइस।।

मानव जाति पहचान गवइस।
भौतीक सुख सुविधा अपनइस।।

फैशन के शौक ला लाइस।
विषय वासना ला भड़कइस।।

जीनगी के रद्दा भुलाइस।
सादगी अस्तित्व ल मिटाइस।।

मनखे मान शक्ति घटाइस।
आज नरक के जीवनगी पइस।।

शिक्षित होके कमजोर होइस।
शान्ति जीवनगी ला भुलाइस।।
$$@@@@@@@@@$$

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें