रविवार, 16 जुलाई 2017

*जय शिव शंकर* सरसी छन्द

जय शिव शंकर भोले बाबा, महिमा गावँव तोर।
तन मन ला अर्पित कर देवँव, मानौ श्रद्धा मोर।।

करहूँ संझा अऊ बिहनिया,  तोर नाव के जाप।
तँय निरमल पावन मन वाले, बइठ हृदय में आप।।

भवसागर के तारनहारी, हर दे मोरो पाप।
चलहौं महूँ सुमारग मा जी, राखत मेल मिलाप।।

आय महीना सावन पावन, रखिहौं महूँ उपास।
करिहौं जाप ओम के मन मा, जबतक रइही साँस।।

बेल पान अउ फूल चढ़ाके, पूजा करहूँ तोर।
जियत मरत के बंधन छूटय, भोले बाबा मोर।।

-हेमलाल साहू
ग्राम गिधवा, पोस्ट नगधा
तहसील नवागढ़, जिला बेमेतरा
छत्तीसगढ़, मो. 9977831273

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें